मोबाइल इंटरनेट और डेटा क्या है?

Join on Telegram

मोबाइल इंटरनेट

आपके पर्सनल कंप्यूटर की अन्य कंप्यूटरों के साथ जानकारी को साझा करने की क्षमता को कनेक्टिविटी कहा जाता है। कनेक्टिविटी की अवधारणा के केंद्र में नेटवर्क होता है। एक नेटवर्क एक कम्युनिकेशन सिस्टम हैं, जो दो या अधिक कंप्यूटरों को जोड़ने का कार्य करता है। दुनिया में सबसे बड़ा नेटवर्क इंटरनेट है। यह एक विशाल राजमार्ग की तरह है, जो आपको अन्य लाखों लोगों से और दुनिया भर में स्थित संगठनों के साथ जोड़ता है। वेब इंटरनेट पर उपलब्ध कई संसाधनों के लिए एक मल्टीमीडिया इंटरफ़ेस प्रदान करता है।

इंटरनेट ने कंप्यूटर के विकास और हमारे दैनिक जीवन पर उसके प्रभाव को प्रेरित किया है। वास्तव में, प्रौद्योगिकीय परिवर्तन की दर अत्यंत तेज गति से बढ़ रही है। इंटरनेट के साथ-साथ और तीन चीजें जो हमारे जीवन पर प्रौद्योगिकी के प्रभाव को चला रही हैं, वे हैं क्लाउड कंप्यूटिंग, वायरलेस संचार और इंटरनेट ऑफ थिंग्स।

क्लाउड कंप्यूटिंग :- एक उपयोगकर्ता के कंप्यूटर से कई कंप्यूटर गतिविधियों को इंटरनेट से जुड़े कंप्यूटर पर शिफ्ट करने के लिए इंटरनेट और वेब का उपयोग करती है। अपने कंप्यूटर पर पूरी तरह से निर्भर रहने की बजाय, उपयोगकर्ता अब क्लाउड से कनेक्ट करने के लिए तथा और अधिक शक्तिशाली कंप्यूटर, सॉफ्टवेयर और स्टोरेज का उपयोग करने के लिए इंटरनेट का उपयोग कर सकते हैं।

वायरलेस संचार ने उस तरीके को पूरी तरह से बदल दिया है, जिस तरह से हम एक दूसरे के साथ संवाद करते हैं। तेजी से हो रहा विकास और टैबलेट्स, स्मार्ट फोन्स और वीयरेबल उपकरणों जैसे वायरलेस संचार उपकरणों की व्यापक किस्मों ने उपयोग के कारण कई विशेषज्ञों को यह भविष्यवाणी करने के लिए प्रेरित किया है कि वायरलेस एप्लीकेशंस वायरलेस क्रांति की बस शुरुआत भर हैं, एक ऐसी क्रांति, जो उस तरीके को नाटकीय रूप से प्रभावित करेगी, जिस तरह से हम संवाद करते हैं और कंप्यूटर प्रौद्योगिकी का उपयोग करते हैं।

इंटरनेट ऑफ थिंग्स ( आईओटी ) इंटरनेट का सतत् विकास है, जो इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों के साथ जुड़ी हुई रोजमर्रा की वस्तुओं को इंटरनेट पर डेटा भेजने और प्राप्त करने की अनुमति देता है। यह उपकरणों के सभी प्रकार को कनेक्ट करने के लिए वादा करता है, कंप्यूटर से लेकर स्मार्ट फोन्स, घड़ियों और किसी भी संख्या में रोजमर्रा के उपकरणों तक।

वायरलेस संचार, क्लाउड कंप्यूटिंग, और आईओटी मोबाइल इंटरनेट को चला रहे हैं। वे नाटकीय रूप से पूरे कंप्यूटर उद्योग को और आपके और मेरे द्वारा कंप्यूटर और अन्य उपकरणों के साथ संवाद को प्रभावित करना जारी रखने का वादा करते हैं। इनमें से प्रत्येक की आगे आने वाले पोस्ट में विस्तार से चर्चा की जाएगी।

डेटा

डेटा बिना प्रोसेस किए हुए तथ्य होते हैं, जिनमें संख्याएं, तस्वीरें, और आवाजें शामिल होते हैं। जैसा पहले बताया गया है, प्रोसेस किए हुए डेटा सूचना में बदल जाते है। इलेक्ट्रॉनिक रूप से इनका संग्रह फाइल में कर लेने पर डेटा का उपयोग सिस्टम यूनिट में इनपुट के रूप में किया जा सकता है।

फाइल आमतौर पर चार प्रकार की होते हैं :- डॉक्यूमेंट, वर्कशीट, डेटाबेस और प्रेजेंटेशन।

  1. डॉक्यूमेंट फाइलें वर्ड प्रोसेसर में तैयार होती है, जिसमें मेमो, टर्म पेपर और लेटर आदि सुरक्षित रहते हैं।
  2. वर्कशीट फाइलें इलेक्ट्रॉनिक स्प्रेडशीट के द्वारा बनाई जाती हैं, जिनका इस्तेमाल बजट जैसी चीजों का विश्लेषण करने के लिए और बिक्री की भविष्यवाणी करने के लिए किया जाता है।
  3. डेटाबेस फाइलें आमतौर पर उच्च रूप से संरचित और संगठित डेटा को संभालकर रखने के लिए डेटाबेस मैनेजमेंट प्रोग्रामों के द्वारा बनाई जाती हैं। उदाहरण के लिए, एक कर्मचारी डेटाबेस फाइल में सभी मजदूरों के नाम, सामाजिक सुरक्षा क्रमांक, नौकरी का ओहदा और संबंधित जानकारी समावेशित हो सकती है।
  4. प्रेजेंटेशन फाइलें प्रस्तुत की जाने वाली सामग्री को सेव करने के लिए प्रेजेंटेशन ग्राफिक्स प्रोग्रामों के द्वारा बनाई जाती हैं। उदाहरण के लिए, एक प्रेजेंटेशन फाइल में दर्शकों के लिए पर्चे, वक्ता के नोट्स और इलेक्ट्रॉनिक स्लाइड्स शामिल हो सकती हैं।
Spread the love
Join on Telegram
Rojgarstudy.com is not related to any government body. We do not claim to be any government body and we are just a news portal that covers the latest various updates and stories. Before believing any information mentioned this Website, check its veracity by visiting the concerned website.